उत्तर प्रदेश की राजधानी लख़नऊ की जड़ों में आतंकवाद की दीमक, शाबास यूपी पुलिस …

इधर पिछले कुछ समय से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की जड़ों में आतंकवाद की दीमक लग गयी है। पूर्वप्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के संसदीय क्षेत्र और कभी तहज़ीब और तमीज़ का पर्याय माने वाले, इस शांतिप्रिय शहर की अवधी संस्कृति को आतंकवादियों की नज़र लग चुकी है और आतंकवाद की दीमक अब लख़नऊ को चाटने लगी है। एक समय पहले आप पहले आप के नाम पर जिस तहजीब से लख़नऊ की पहचान बनी थी वही आज आतंकवादियों की शरणस्थली के रूप में सामने आता जा रहा है। आतंक के पर्याय बन चुके कई आतंकवादियों को इन दिनों इसी शहर ने अपने आगोश में पनाह दी है। वैसे इसका कारण विगत में राजनीतिकों का विशिष्ट वोट बैंक की ख़ातिर अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को अपने स्वार्थ के लिए गुमराह करना ही रहा है। यह बात अब सर्व विदित है कि देश के किसी भी राज्य में आतकंवादी वारदात के बाद उसके मुख्य पात्र कई बार लख़नऊ से पकड़े गए हैं।

इस विषय में यूपी पुलिस की भूमिका एक ओर जहाँ पर इस दृष्टि से सवालों के घेरे में है कि उसकी नाक के नीचे ऐसा कैसे हो रहा है ? क्या उसकी जिम्मेदारी बस अपने राजनीतिक आकाओं की सुरक्षा ही है। लेकिन यह इस सिक्के का एक पहलू मात्र है।

प्रसन्नता का विषय यह है कि इसी पुलिस द्बारा दूसरे राज्यों की विशिष्ट टास्क फोर्स के साथ सहयोग और समन्वय से ही इन अबूबशर और शाहबाज़ जैसे दूसरे आतंकवादियों की गिरफ्तारी सम्भव हो सकी है। शाबास यूपी पुलिस … किंतु सावधान इन सबकी जड़ों को नष्ट करने के लिए अभी बहुत कुछ करना बाकी है.

Advertisements

2 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Udan Tashtari
    अगस्त 26, 2008 @ 16:29:00

    शाबास यूपी पुलिस!!!शुभकामनाए!!

    प्रतिक्रिया

  2. अवनीश एस तिवारी
    अगस्त 31, 2008 @ 05:56:00

    देश को आतंक वाद से लड़ने के लिए उर्जावान नेतृत्व की आवश्कता है |– अवनीस तिवारी

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: