सुपर डैड …… [कहानी] – श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’

“अंश ….”मोबाइल के स्क्रीन पर नाम देखते ही आंखों में आश्चर्य के साथ उसने पूछा। 

“अरे ऎसा कुछ नहीं.. यह तो बस घर का नाम … मैंने पहले ही कहा था| नाम बस अंग्रेजी के ए अक्षर से ही आरम्भ होगा। एग्जामिनेशन रोल वगैरा में ऊपर आता है। बाकी आप सब लोग जो भी नाम रखना चाहें। कृति ने मन की भावनायें छुपाने का असफल प्रयास किया।

“मुझे इससे कोई अंतर नहीं पड़ता .. ’अंश’ अच्छा नाम है। इसे ही रख लेंगे पहले उसे इस दुनिया में आने दो…” वर्षों की आकुल प्रतीक्षा के बाद मातृत्व सुख की देहरी पर खड़ी उस नव मां के उभरे हुये पेट पर उसने एक दृष्टि डाली और बात टालने के लिये दूसरे कमरे में चला आया।
बात सिर्फ इतनी ही नहीं थी। … उसके मष्तिष्क में विचारों की आंधी उठ रही थी। 
उसका मस्तिष्क बस यही सोच रहा था कि सारे नाम…… सारी चर्चा ऎसी क्यों जिससे आभास हो कि बेटा ही आयेगा… कपड़े .. बातें भावी योजनायें सब से ऎसा प्रतीत होता कि आने वाले बेटे की बातें हो रही हैं… दादी, नानी, ताई और सम्भावी मां सब.. परिवार में छोटे बच्चे से बात करते तो उसके आने वाले भाई की बातें ही करते ….

वह यह सब देखता सुनता और स्वयं को आहत अनुभव करता। वह जितना सोचता.. बेटा और बेटी के बीच भेद भावना उसे प्रमुख रूप से महिलाओं में अधिक प्रतीत होती। उसका अपना जीवन तो महिलाओं के संरक्षण को सपर्पित था। पारिवारिक और सामाजिक विरोध की प्रतिकूल आंधी में भी नारी जागरूकता को समर्पित सामाजिक संस्था से वह निरन्तर से जुड़ा रहा। अपनी संस्था के माध्यम से आर्थिक अथवा सामाजिक वंचना की शिकार कई मानसिक बेटियों को उच्च शिक्षा ग्रहण कर समाजिक एवं आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने में सहयोग किया है।  यदि वह स्वयं भी इसी भेदभाव की भावना से विचार करता तो उसके कन्या समतामूलक आन्दोलन का क्या होता …? उन बच्चियों को सर्वांगीण प्रगति और स्वाभिमान का रास्ता उसने कैसे दिखाया होता। उसने सोचा…

किन्तु आज अपने ही घर में सबकी दृष्टि से ओझल इस अनजाने से होने वाले व्यवहार को वह अपने चिन्तन में भी नहीं सहन कर पा रहा है। उसने अनुभव किया कि सामाजिक कार्य के लिये अपने वैचारिक आन्दोलन को पुन: उसे घर से ही आरम्भ करना होगा अन्यथा अपने आन्दोलन से सम्बद्ध अनेकों बेटियों के माध्यम से समाज में वैचारिक परिवर्तन के उद्देश्य को प्राप्त करने का आजीवन प्रयास व्यर्थ हो जायेगा।

“ पापा आप भी आ जायें कृति दी को आपरेशन थियेटर में ले गये हैं…” सेल पर छोटी बेटी की आवाज उसका चिन्तन भंग करती है। “ हां बेटा मैं अभी आता हूं ….” फोन रखते ही वह घर से निकल पड़ा।
उसने सोचा.. नवजात तो कोई भी हो सकता है …… कन्या भी। इन महिलाओं का पता नहीं उसको ध्यान में रखकर कोई कपड़े रखे हों अथवा नहीं। यदि बेटी हुयी तो … बाद में यह सब जानकर क्या उसे हीन भावना नहीं होगी कि मैं तो अनाहूता हूं। मेरे लिये किसने तैयारी की थी। बस आ गयी तो ठीक है अन्यथा कोई विशेष बात नहीं।
“नहीं नहीं …ऎसा नहीं है। मैं हूं ना तुम्हारी मां का पापा … तुम्हारा पापा … तुम्हारी छॊटी मासी की हास्टल फ़्रेंडस, सभी लड़्कियों का सुपर डैड” उसने अपने आप से कहा।
“तुम्हारे लिये वैसी ही फ्राक ला रहा हूं जो कभी, तुम्हारी मां के लिये पहली बार ली थी। तुम अपनी मां और अपने पापा की नहीं अपितु अपने “सुपर डैड” की बेटी होगी मैं प्रतीक्षा कर रहा हूं अपनी बेटी की फिर से अपनी बाहों में लेने के लिये। हम दोनों मिलकर बदलेंगे इस सामाजिक सोच को। मैं पुरूषों में और तुम महिलाओं में … ” अपने आपमें बुदबुदाते हुये उसकी दृष्टि नर्सिंग होम के रास्ते में शोरूम में टंगी हुयी फ्राक पर अटक गयी और उसके कदम तेजी से काउण्टर की ओर बढ़ चले।
 
Advertisements

2 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. prerna argal
    जुलाई 31, 2011 @ 17:26:35

    आपकी पोस्ट की चर्चा सोमवार १/०८/११ को हिंदी ब्लॉगर वीकली {२} के मंच पर की गई है /आप आयें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएँ / हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। कल सोमवार कोब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    प्रतिक्रिया

  2. shikha varshney
    जनवरी 21, 2012 @ 18:29:51

    कितना सच सच …इसके पीछे कारण कुछ भी हों .पर सच यही है जो आपने कहा.बहुत सुन्दर कहानी .इस कहानी के नायक जैसा १०० में से १ भी हो जाये तो समाज को बदलते देर नहीं लगेगी.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: