मेरा आदर्श भी वही है … तुम नहीं राम ..!! [कविता] – रश्मि भारद्वाज

हे राम !
जानते हो तुमसे
क्यों नहीं मांगी
किसी ने अग्निपरीक्षा…..!!??
क्योंकि ये अगाध प्रेम था किसी का
जो नहीं देख सकता था खड़ा
तुम्हें प्रश्नो के दायरे में
जो नहीं चाहता था
खंडित हो तुम्हारी छवि
मर्यादा पुरुषोतम की
इतना निश्चल प्रेम
ईश्वर बना दिया तुम्हें ….!!!!
और ये कैसा प्रेम तुम्हारा
जिसे थी प्रमाण की दरकार
दुनिया के लिए…..!!!

ये कैसा ईश्वरत्व तुम्हारा….!!??
जिसे बचाने के लिए
कर गए परित्याग भी तुम
हमेशा के लिए ………..
साबित कर दिए दुनिया के इल्ज़ाम
वह भी तब
जब सिर्फ तुम्हारी जरूरत थी उसे
तब कैसे पाओगे
तुम भी वह प्रेम……!!!
जो तुम्हारा था कभी
उसे तो जाना ही था
धरती के गर्भ में
आज से सदियों पहले ही
कर गया कोई
अपनी अस्मिता को
बचाने की पहल
प्रेम में होने के बाद भी …….
मेरा आदर्श भी वही है राम
तुम नहीं ……………..!!

 रश्मि भारद्वाज
©तृषा’कान्त’

Advertisements

3 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. shashi purwar
    फरवरी 27, 2012 @ 08:02:34

    तुम भी वह प्रेम……!!!जो तुम्हारा था कभीउसे तो जाना ही थाधरती के गर्भ मेंआज से सदियों पहले हीकर गया कोईअपनी अस्मिता कोबचाने की पहलप्रेम में होने के बाद भी …….मेरा आदर्श भी वही है रामतुम नहीं ……………..!!bahut sunder prastuti ……..abhar . yatharth ka atit se juda …..sach ..sadar

    प्रतिक्रिया

  2. श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’
    फरवरी 27, 2012 @ 13:57:26

    …आज से सदियों पहले ही कर गया कोई अपनी अस्मिता को बचाने की पहल प्रेम में होने के बाद भी ……. मेरा आदर्श भी वही है राम तुम नहीं ……………..!!अद्भुत भाव लेकर यह पंक्तियां हृदय स्थल में गहरे अवतरित हो जाती हैं .. राम के मर्यादा पुरूषोत्तम होने की गाथा मे सीता का मार्मिक पक्ष सशक्तता के साथ उठाती एवं मौलिक दृष्टिकोण से नारी अस्मिता को तलाशती ..एक सशक्त रचना। बहुत बह्त शुभकामनायें रश्मि जी ..!

    प्रतिक्रिया

  3. भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    फरवरी 27, 2012 @ 18:10:16

    कुछ भी कह लीजिये, राम बनना भी किसी के बस की बात नहीं. उनको लोग कुछ भी कह लें, लेकिन इससे भी लोगों को अच्छा ही होता है, नाम ही मिलता है.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: