वैदिक परिप्रेक्ष्य और यौनिक स्वच्छ्न्दता की तलाश में आधुनिक पाश्चात्यवादी नारी कुंठा (भाग – 3) [आलेख] – शिवेन्द्र कुमार मिश्र


.अथर्ववेद का मंत्र देखें :-
आ नो अग्ने सुमतिं संभलो गमेदिमां कुमारीं सहनो मगेन्
जृष्टावरेषु समनेषु वल्गुरोयां पत्या सौभगत्वमस्यै। अथर्ववेद 2.36
इस मंत्र से ऐसा प्रतीत होता है कि – ”प्राय: माता-पिता पुत्री को अपने प्रेमी (भावी पति) के चयन के लिए स्वतंत्र छोड़ देते थे और प्रेम प्रसंग में आगे बढ़ने के लिए उन्हें प्रत्यक्षत: प्रोत्साहित करते थे।
………..यह पूर्णत: पवित्र व आनन्द का अवसर था जिसमें न तो किसी प्रकार कलुष था और न अस्वाभाविकता।

अन्त में महाभारत के निम्न उध्दरण को प्रस्तुत करना चाहूंगा –
”सकामाया: सकामेन निर्मन्त्र: श्रेष्ठ उच्यते।” (म.भा. 4.94.60)
अर्थात् सकामा स्त्री का सकाम पुरूष के साथ विवाह भले ही धार्मिक क्रिया व संस्कार से रहित क्यो न हो, सर्वोत्त्म है।”
….
डा0 राजबली पाण्डेय कृत हिन्दू संस्कार – विवाह संस्कार से ”गृहीत उक्त सन्दर्भ से यह भलीभांति समझ में आ सकता है कि स्त्री को ”यौन स्वतंत्रता” हिन्दू/वैदिक समाज के लिए महत्वपूर्ण रहा है। ………..स्पष्ट है कि स्त्री की ”यौन संतुष्टि” का भाव हमारे सामाजिक सहचारी जीवन की व्यवस्था करते समय नीतिकारों के मन में कितना गहरा बैठा हुआ है। ..

विवाह :- वैदिक परम्परा में पत्नी को जो स्थान प्राप्त था उससे ही विवाह के महत्व को समझा जा सकता है।

”जायेदस्तम् मघवनत्सेदु योनिस्तदित त्वा युक्ता हस्यो वहन्तु। यदा कदा च सुनवाम् सोममग्निष्टवा द्रतो धन्वात्यछा।(ऋ 3.83.4)। भावार्थ यह है कि पत्नी ही घर होती है। वहीं घर में सब लोगो का आश्रय स्थान है। स्त्री के कारण ही परिवार का संगठन होता है। ऋग्वेद का ही मंत्र संख्या 3.53.6 भी स्त्री (पत्नी) का ऐसे ही गौरवान्वित करता है। ऋग्वेद के इन मंत्रो में आधुनिक नारी जिस अस्तित्व और अस्मिता के संकट से गुजर रही है शायद उसका समाधान मिल जाए। अस्तित्व संकट कार्य है। संकट प्रोमिला के.पी. के शब्दो में देखिए – ”वरजीनिया वुल्फ” ने अपने कमरे को लेकर जो बाते बताई थीं : उसकी पूरी संभावनाएं कम से कम आज की मध्यवर्गीय औरत के पास हैं। पर उसने अपनी रसोई को छोड़ दिया : उसे उपभोगवादी सामग्री के हवाले कर दिया। घरेलू जगह में भी ऐसे अनेक कोने थे जो स्त्रियों के अपने थे। – पर हड़बड़ी में जगह ही खोने की नौबत उभर आई।” यह है आधुनिकता के दंभ में छिपा आधुनिक नारी का दर्द। किंतु वैदिक ऋषि तो कहता है ”जायेदस्तम्” पत्नी ही घर है। कोना नहीं सारा आवास ही आपकी कृपा के आश्रित हैं। श्रीमति प्रोमिला के.पी. का यह आरोप कि भारत में वात्स्यायन के पश्चात से हिन्दू धर्म भी मनुवादी रास्ते पर चला अर्थात यौनिकता या देह को हेय मानने का रास्ता। यह आरोप सर्वथा गलत है मनु विवाह के संबंध में कहते हैं – सुंख चेहेच्छता नित्यं योsधार्यों दुर्बलेन्द्रियौ: अर्थात दुर्बलेन्द्रिय व्यक्ति ग्रहस्थाश्रम को धारण नही कर सकता।” (मनु. स्मृति 3-99-79) स्पष्ट है कि यह कथन स्त्री पुरूष की यौनिकता को ध्यान में रखकर ही कहा गया होगा। आइये, इस तथ्य का परीक्षण वैदिक मनीषियों द्वारा स्वीकार्य विवाह पध्दतियों के अनुशीलन से किया जाए।
वैसे तो आठ विवाह स्वीकार किए गए है – चार प्रशस्त या श्रेष्ठ और चार अप्रशस्त या निष्कृष्ट। यहां पर हम उन्हीं प्रकारों की संक्षिप्त चर्चा करेंगे जिसमें स्त्री के स्त्रीत्व की मर्यादा का सबसे अधिक ध्यान रखा गया हो। विवाह पध्दतियों में ”पिशाच विवाह” को मैं प्रथम स्थान पर रखना चाहूंगा।

पिषाच विवाह :- ”सुप्तां, मत्तां, प्रमत्तां व रहो यत्रोपगच्छति। सा पापिष्ठो विवाहानां पैशाचाष्टमोsधम: मत। प्रमत्त, अथवा सेती हुई कन्या से मैथुन करना। (म.स्मृ.3.24) ही पिशाच विवाह है।” वस्तुत: यह विवाह उस कन्या को विवाह, गृहस्थ जीवन, संतानोत्पति और सामाजिक वैधता का अधिकार देता है जिसके साथ बलात्कार किया गया हो। यद्यपि प्रत्येक स्थिति में ऐसा संभव नही होता होगा तो उसके लिए दण्ड संहिताओं मे अलग से विधान है – जिनका अध्ययन एक अलग विषय है। किंतु जिस नारी और विशेषत: कन्या से या अविवाहिता से, बलात्कार किया गया हो उसकी पीड़ा वही स्त्री ही समझ सकती है। प्राय: ऐसी स्थिति में लड़कियों को चुप रहने या आत्महत्या करते ही देखा गया है। आधुनिक राज्य और उनके दण्ड विधान इस दिशा में दोषी को दण्ड (जो त्रृटिपूर्ण व्यवस्था में प्राय: नहीं हो पाता) और पीड़िता को कुछ रूपयों का अनुतोष प्रदान करता है। ”बलात्कार” के बदले ”अनुतोष” की स्थिति क्या दयनीय और मजाकिया नहीं लगती ? इस व्यवस्था से उत्पन्न क्षोभ देखिए कि अभी हाल ही समाचार पत्रों की सुर्खियां बना यह समाचार कि एक निचली अदालत की जज ने बलात्कार के वाद में निर्णय देते हुए यह सुझावात्मक टिप्पणी की – ”कि बलात्कारियों को इंजेक्शन द्वारा नपुसंक बना देना चाहिए।”

इससे यह तो स्पष्ट है कि तमाम महिला संगठनों और बड़े-बड़े कानूनो व दावों के बाद भी बलात्कार से पीड़िता ”नारी के हक” में कुछ भी नहीं कर पाता। ”पिशाच विवाह” कम से कम निम्न वर्गीय महिलाओं जैसे खेतिहर, मजदूर, वनवासी, खदानों में काम करने वाली, श्रीमती के घरो में काम करने सेविकाओं को आदि यौन शोषण के विरूध्द सामाजिक सुरक्षा, सम्मान और नारी के अधिकार प्रदान करता है। जो आधुनिक समाज भी देने में सक्षम नहीं है। इसके पीछे निश्चय ही राज्य की सहमति और शक्ति रही होगी क्योंकि उसके बिना ”बलात्कृता नारी” को ”विवाह” की सुरक्षा प्रदान कर पाना संभव ही नहीं। यह ध्यान रखना चाहिए कि प्राचीन हिन्दू समाज में ”बहुपत्नी प्रथा” स्वीकार्य थी। अत: ऐसे विवाह के लिए बाध्य किए गए पुरूष को अन्य पत्नियों का चयन करने में और पुन: पूर्ववत् हरकत करने में, दोनो ही स्थितियों में विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ता होगा।

राक्षस विवाह :- मनु ने इसके लक्षण में कहा है –

”हत्वा, छित्वा, च भित्वा च क्रोशन्तीं, रूदतीं गृहात्
प्रसध्यं कन्यां हरतो, राक्षसो विधिरूच्यते।” (मनु-3.33)
अर्थात रोती, पीटती हुई कन्या का उसके संबंधियों को मारकर या क्षत विक्षत कर बलपूर्वक हरण कर विवाह करना ”राक्षस” प्रकार का विवाह कहा जाता था।

मैं इस पध्दति को ”नारी” की सामाजिक स्वीकार्यता और सम्मान से जोड़कर क्यों देखता हूं : उसका कारण है। पहली बात यह विवाह ”अपहरण और बलात्कार नही हैं।” अपितु इसमें विवाह पूर्व ”प्रेम” का स्थायी भाव पुष्पित होता है। ऐसा कतिपय विद्वान स्वीकार करते हैं। भगवान कृष्ण और रूक्मणी तथा पृथ्वीराज चौहान और संयुक्ता के विवाह को उदाहरण में रख सकते हैं। जहां ”राक्षस विवाह” हुआ है और विवाहपूर्व ”प्रेम” का स्थायी भाव विद्यमान है। यद्यपि इसके विरूध्द भी उदाहरण दिए जा सकते है किंतु बहुमान्य तथ्य विवाह पूर्व प्रेम का स्थायी भाव ही है।

अब मैं अपना मत रखता हूं कि यह नारी के ”सम्मान” से कैसे संबंधित है। सामान्यत: यह विवाह राजन्यों या क्षत्रियों कुलों में सम्मानित माना गया। विवाह पूर्व ”प्रेम” की स्थिति में एक अन्य उपाय ”गान्धर्व विवाह” था (असुर विवाह भी) किंतु चोरी छिपे विवाह करने में वीर ”स्त्री-पुरूषों” का सामाजिक अपमान था तो इस तरह ”राक्षस” प्रकार के विवाह में दोनो पक्षों से निकट संबंधियों के युध्द में मारे जाने का भय था। ऐसी स्थिति में इन हत्याओं का सामाजिक कलंक नववधू को ही ढोना था। उल्लेखनीय है कि आज भी यदि नववधू के आगमन के पश्चात परिवार में कोई दुर्घटना हो जाए तो अशिक्षित परिवारों की तो छोड़िए शिक्षित परिवारों में भी इसका दोष ”नवागन्तुका” के सिर पर ही थोप देते हैं। ऐसी स्थिति से ”कन्या” को बचाने व युगल के ”प्रेम” को सर्वोच्च सम्मान देते हुए ”राक्षस विवाह” को न केवल स्वीकार किया गया अपितु क्षत्रियों के लिए सर्वाधिक प्रतिष्ठित विवाह पध्दतियों में रखा गया। स्पष्ट है कि राक्षस विवाह का विधान नारी की प्रतिष्ठा और सामाजिक सम्मान को बनाये रखने और विवाह पूर्व युगल के प्रेम को सामाजिक स्वीकरोक्ति का ही प्रकार है।

गान्धर्व विवाह :- यह संभवत: विवाह संस्था के जन्म से भी पूर्व से विद्यमान विवाह पध्दति है जिसे बाद में सभ्य समाज ने सामाजिक स्वीकरोक्ति प्रदान की है। मनु की गान्धर्व विवाह की परिभाषा देखें –
”इच्छायाsन्योन्यसंयोग: कन्यायाश्च वरस्य च
गान्धर्वस्य तु विज्ञेयो मैथुन्य: कामसंभव:।” (मनु 3.32)
अर्थात कन्या और वर पारस्परिक इच्छा से कामुकता के वशीभूत होकर संभोग करते हैं। ऐसे स्वेच्छापूर्वक विवाह को गान्धर्व विवाह कहा जाता है।” यह परिभाषा बहुलत: स्वीकार्य है।

इस विवाह में विवाह पूर्व कामुकता के वशीभूत स्वेच्छया किए गए संभोग को सामाजिक स्वीकृति से विवाह में बदल दिया गया है। इसमें न केवल नारी के सम्मान और गरिमा की रक्षा हुई है अपितु विवाह पूर्व जो बीज नारी के गर्भाशय में स्थापित हुआ है। उसकी भी मर्यादा और सामाजिक सम्मान का संरक्षण हुआ।

उपरोक्त के अतिरिक्त प्राजापत्य विवाह जिसे प्रशस्त विवाह श्रेणियों में माना गया है। को भी मैं नारी के सम्मान और गरिमा को महत्व प्रदान करने वाला विवाह मानता हूँ।

प्राजापात्य विवाह :- मनु की परिभाषा देखिए :-
”सहोभौ चरतां धर्मीमति वाचानुभाटय च
कन्याप्रदानमभ्यचर्य प्राजापत्यो विधि स्मृत:।”
अर्थात ”विवाह का वह प्रकार जिसमें तुम दोनों धर्म का साथ-साथ आचरण करो” ऐसा आदेश दिया जाता है।” इसमें विशेष बात यह है कि वर स्वंय वधू के पिता के पास प्रार्थी के रूप में आता था और पिता उसकी योग्यता पर विचार कर उस वर के साथ पाणिग्रहण संस्कार सम्पन्न कर देता था।” वर का स्वंय वधू के पिता के पास प्रार्थी के रूप में आना वर-वधू का परस्पर पूर्व परिचय आकर्षण, एवं प्रेम सिध्द करता है और वधू के पिता द्वारा योग्यता के परीक्षणोपरान्त विवाह सम्पन्न करना पिता के दायित्व और कन्या के परिचय एवं प्रेम के बीच अद्भुत समन्वय का उदाहरण है।

उपरोक्त विवाह प्रकारों पर चर्चा करते हुए हम यह समझ सकते हैं कि वैदिक हिन्दू व्यवस्था द्वारा सुविचारित ”नारी विमर्श” कितना आधुनिक और नारी की यौन स्वतंत्रता एवं सामाजिक मर्यादा के बीच कितना अद्भुत सामंजस्य स्थापित करता है।

आधुनिक सहचारी जीवन का चिन्त्य विषय स्त्री-पुरूष मित्रता और नारी की यौन स्वतंत्रता आदि कितना आधुनिक है। इसको यदि हिन्दू सभ्यता के परम्परागत साहित्य के द्वारा देखने का प्रयास करें तो स्थिति स्वत: स्पष्ट हो जायेगी।

सभ्यता के शैशव काल में युवक तथा युवतियां बिना किसी शक्ति अथवा छल के स्वंय परस्पर आकर्षित होते रहेंगे। ऋग्वेद 10.27.17 के अनुसार – ”वही वही वधु भ्रदा कहलाती है जो सुन्दर वेश-भूषा से अलंकृत होकर जनसमुदाय में अपने पति (मित्र) का वरण करती है।” युवा लड़कियां ग्राम-जीवन अथवा अन्य अनेक उत्सवों व मेलों में जहां उनका स्वतंत्र चुनाव तथा परस्पर आकर्षण उनके संबंधियों को अवांछित न लगे इस प्रकार से एक दूसरे के सहवास का अनुभव कर चुके हो अथर्ववेद का मंत्र देखें :-

आ नो अग्ने सुमतिं संभलो गमेदिमां कुमारीं सहनो मगेन्
जृष्टावरेषु समनेषु वल्गुरोयां पत्या सौभगत्वमस्यै। अथर्ववेद 2.36

इस मंत्र से ऐसा प्रतीत होता है कि – ”प्राय: माता-पिता पुत्री को अपने प्रेमी (भावी पति) के चयन के लिए स्वतंत्र छोड़ देते थे और प्रेम प्रसंग में आगे बढ़ने के लिए उन्हें प्रत्यक्षत: प्रोत्साहित करते थे। ऋ.वे. 6.30.6 के अनुशीलन से ऐसा विदित होता है कि कन्या की माता उस समय का विचार करती रहती थी जब कन्या का विकसित यौवन (पतिवेदन) उसके लिए पति प्राप्त करने मे सफलता प्राप्त कर लेगा। यह पूर्णत: पवित्र व आनन्द का अवसर था जिसमें न तो किसी प्रकार कलुष था और न अस्वाभाविकता।

अन्त में महाभारत के निम्न उध्दरण को प्रस्तुत करना चाहूंगा –
”सकामाया: सकामेन निर्मन्त्र: श्रेष्ठ उच्यते।” (म.भा. 4.94.60)
अर्थात् सकामा स्त्री का सकाम पुरूष के साथ विवाह भले ही धार्मिक क्रिया व संस्कार से रहित क्यो न हो, सर्वोत्त्म है।”

डा0 राजबली पाण्डेय कृत हिन्दू संस्कार – विवाह संस्कार से ”गृहीत उक्त सन्दर्भ से यह भलीभांति समझ में आ सकता है कि स्त्री को ”यौन स्वतंत्रता” हिन्दू/वैदिक समाज के लिए महत्वपूर्ण रहा है। महाभारत के उपरोक्त श्लोक में ”सकामा” शब्द पर बल देना भी यही स्पष्ट करता है कि यदि कामातुरा नारी कामातुर पुरूष से संबंध बना ले तो किसी विधि विधान के बिना भी वह ”सर्वोत्तम” विवाह है। महाभारतकार ”श्रेष्ठ” शब्द का उच्चारण कर रहे हैं। स्पष्ट है कि स्त्री की ”यौन संतुष्टि” का भाव हमारे सामाजिक सहचारी जीवन की व्यवस्था करते समय नीतिकारों के मन में कितना गहरा बैठा हुआ है।
  …….  ( क्रमश:)

सम्पादन – श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’

Advertisements

वैदिक परिप्रेक्ष्य और यौनिक स्वच्छ्न्दता की तलाश में आधुनिक पाश्चात्यवादी नारी कुंठा (भाग – 2) [आलेख] – शिवेन्द्र कुमार मिश्र

इतनी व्यापक चर्चा के बाद यह स्वीकार करने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए कि ”हिन्दू नारी विमर्श के केन्द्र में ”नारी की दैहिक एवं भावात्मक संतुष्टि” है। हमारा नारी विमर्श कैसे नारी की यौन संतुष्टि एवं संतान प्राप्ति (विशेषत: पुत्र) की उसकी इच्छा को लेकर केन्द्रित है। इसे आगे के प्रसंग से समझना चाहिए।इस चर्चा से उन लोगों को उत्तर मिल जाना चाहिए जो यह मानते हैं कि – ”कामसूत्र की व्याख्या भारत में हुई। अजन्ता एलोरा तथा खजुराहों की जगहों में मूर्तिकला के विभिन्न यौनिक स्वरूप मिलते हैं। पर वैदिक संस्कृति का स्त्रीविरोध सैमेटिक धर्मों के व्यापन के दौरान भी बरकरार रहा।” (स्त्री – यौनिकता बनाम अध्यात्मिकता : प्रमीला, के.पी. – अ0 4 पृ0 38) . 

आचार्य वात्सात्यन ने अपने ग्रंथ के मंगलाचरण में लिखा है – ”धर्मार्थकमेभ्य नम:” अर्थात धर्म अर्थ और काम को नमस्कार है।” ‘धर्म’ की वैशेषिक दर्शन की परिभाषा देखें – ”यतोsभ्यदुय नि:श्रेयस सिध्दिस: धर्म:।” अर्थात इस लोक में सुख और परलोक में कल्याण करने वाला तत्व ही धर्म है इस लोक में अर्थात भौतिक संसार में सुख क्या है ?
चाणक्य का कथन है –


”भोज्यं भोजन शक्तिष्च रतिषक्तिर्वरागंनां
विभवो दान शक्तिष्च नाल्पस्यतपस: कलम॥”

अर्थात भोज्य पदार्थ और भोजन करने शक्ति, रति अर्थात सैक्स शक्ति एवं सुन्दर स्त्री का मिलना, वैभव और दानशक्ति का प्राप्त होना ‘कम तपस्या’ का फल नहीं है। (चा0नी0अ02/2)

स्पष्ट है कि भारतीय हिन्दू परम्परा में ”स्त्री और सेक्स” सांसारिक सुखों का आधार है। ‘काम’ या सैक्स को लेकर कतिपय अन्य उदाहरण देखें –

कामो जज्ञे प्रथमे (अथर्ववेद – 9/12/19) कामस्तेदग्रे समवर्तत (अथर्ववेद – 19/15/17) (ऋग्वेद 10/12/18)

वृहदारव्यक में विषय-सुख की अनुभूति के लिए मिथनु अर्थात स्त्री पुरूष जोड़े की अनिवार्यता को वाणी दी गई है – ”स नैव रेमे तस्मादेकाकी न रमते। स द्वितीयमैच्छत।”

अर्थात किसी का अकेले में मन नहीं लगता ब्रहमा का भी नहीं। रमण के लिए उसे दूसरे की चाहना होती है।


मानव मन की मूलवासनाओं अथवा प्रवृत्तियों को हमारे आचार्यों ने इस प्रकार चिन्हित किया – ”वित्तैषणा, पुत्रषवणा तथ लोकेषणा” इनको वर्गो में रखते हुए इनके मूल में ”आनन्द के उपभोग” की प्रवृत्ति को माना है – ब्रहदारण्यक उपनिषद का कथन है – ”सर्वेषामानन्दानामुपस्थ एकायनम्” अर्थात सभी सुख एकमात्र ”उपस्थ” (योनिक एवं लिंग) के आधीन हैं। (उपस्थ – योनि एवं लिंग संस्कृत हिन्दी शब्द कोष – वा0शि0आप्टे – पृ0 213)

[इस चर्चा से यह भारतीय हिन्दू दृष्टिकोण स्वत: स्पष्ट है कि भौतिक सुखों के केन्द्र में है – ”नारी और यौन सुख अर्थात सेक्स है। इस प्रकार ”हिन्दू नारी विमर्श” के लिए नारी की यौन संतुष्टि, उसके यौनाधिकार और उसकी संतानोत्पत्ति का अधिकार केन्द्र में आ जाता है। वेदों, उपनिषदों, आरण्यकों एवं नीति ग्रंथो में इसकी चर्चा है। अथर्ववेद में तो इस पर विस्तृत चर्चा देखी जा सकती है जिसे इस चार्ट से समझ सकते हैं। ]

यह कुछ उदाहरण हैं। ऐसे अनेकों काण्ड और सूक्त प्रस्तुत किया जा सकते हैं। हमारी परम्परा में ”वेदों” को ”ज्ञान” का ”इनसाइक्लोपीडिया” माना गया है। मनु कहते हैं – वेदो अखिलोs धर्म ज्ञान मूलम”।

उपरोक्त उदाहरणों एवं चर्चा से यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि हमने ”सहचर्य” जीवन की अनिवार्यता को कितना महत्व दिया और उस पर कितना विशद मनन एवं अध्ययन किया। प्रसंगत: यह चर्चा यहां यह भी समझने के लिए पर्याप्त है कि क्यों भारत में ही और हिन्दुओं द्वारा ही यौन रत् मूर्तियों के मन्दिर बनाये गए और क्यों ”कामसूत्र” जैसी रचना का सृजन हमारे ही देश में हुआ। प्रसंगत: बता दूं कि महर्षि वात्सायन अपनी परम्परा के अकेले ऋषि नहीं है – ”इस परम्परा में भगवान ब्रहमा, बृहस्पति, महादेव के गण नन्दी, महर्षि उददालक पुत्र श्वेतकेतु, ब्रभु के पुत्र, पाटलिपुत्र के आचार्य दत्तक, आचार्य सुवर्णनाम्, आचार्य घोटकमुख, गोनर्दीय, गोणिका पुत्र, आचार्य कुचुमार आदि। प्रारम्भ में यह ग्रंथ एक लाख अध्यायों वाला था।”

यद्यपि सुधी जन इसे विषयान्तर मान सकते हैं तदापि हिन्दुओं में कामशास्त्र (सैक्स को एक विषय के रूप में मानना) की महत्ता, परम्परा एवं विशाल साहित्य का अनुमान लगाने के लिए यह जानकारी आवश्यक है।

इतनी व्यापक चर्चा के बाद यह स्वीकार करने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए कि ”हिन्दू नारी विमर्श के केन्द्र में ”नारी की दैहिक एवं भावात्मक संतुष्टि” है। हमारा नारी विमर्श कैसे नारी की यौन संतुष्टि एवं संतान प्राप्ति (विशेषत: पुत्र) की उसकी इच्छा को लेकर केन्द्रित है। इसे आगे के प्रसंग से समझना चाहिए।

इस चर्चा से उन लोगों को उत्तर मिल जाना चाहिए जो यह मानते हैं कि – ”कामसूत्र की व्याख्या भारत में हुई। अजन्ता एलोरा तथा खजुराहों की जगहों में मूर्तिकला के विभिन्न यौनिक स्वरूप मिलते हैं। पर वैदिक संस्कृति का स्त्रीविरोध सैमेटिक धर्मों के व्यापन के दौरान भी बरकरार रहा।” (स्त्री – यौनिकता बनाम अध्यात्मिकता : प्रमीला, के.पी. – अ0 4 पृ0 38) प्रमीला के.पी. जैसी नारीवादी चिन्तकों ने स्त्री-पुरूष सहचारी जीवन में आधुनिक नारी-विमर्श के सन्दर्भ में तमाम प्रश्न उठाये हैं। जिनके उत्तर स्वाभाविक रूप से इस लेख में मिल सकते हैं। जैसे उनका कथन है – ”मानव अधिकारों के नियमों की बावजूद व्यक्तिगत यौनिक चयन और प्रेम के साहस को सामाजिक मान्यता नहीं मिलती। क्यों ?” (इसी पु0 के इसी अ0 के पृ0 44 से) यदि आधुनिक युग की एक नारीवादी विचारिका की यह पीड़ा है तो आप समझ सकते हैं कि आधुनिक पाश्चात्य-वादी ”नारी समानता” के घाव कितने गहरे हैं।

हम सहचारी जीवन की यौनानुभूतियों की ओर चलते हैं। प्रमीला – के.पी. कामसूत्र के हवाले से लिखती हैं – ”विपरीत में कामसूत्र के अनुसार, यौनिक क्रिया में वह परम साथीवन का निभाव उपलब्ध होता है। उसके एहसास में युग्म एक स्पर्षमात्र से खुश रहते हैं। बताया जाता है कि मानव-शरीर इस तरह बनाया गया है कि उसमें यौनावयव ही नहीं किसी भी पोर में एक बार छूनेमात्र से एक नजर डाल देने मात्र से प्रेम की अथाह संवेदना जाग्रत होती है। पर यह नौबत सच्चे प्रेमियों को ही हासिल है।”

प्रोमिला जी सही जगह पर इस प्रसंग का पटाक्षेप करती हैं। वस्तुत: यौन जीवन में प्रेम के अतिरिक्त यौन उत्तेजना को पैदा करने, उसे बनाये रखने एवं सफल यौन व्यवहार एवं चरमसंतुष्टि प्रदान करने वाले संबंधों के लिए कामकला के ज्ञान की आवश्यकता होती है। स्त्री के लिए इसका विशेष महत्व होता है। ऐस वस्तुत: उसकी विशेष प्रकार की शरीर रचना के कारण होती है। कामग्रंथो यथा कामसूत्र, अनंगरंग, रतिरहस्य आदि में इसकी विशद चर्चा की गई है।

हमारा विषय कामशास्त्रीय चर्चा नहीं है किंतु यह प्रासंगिक होगा कि स्त्री के कामसुख की चर्चा कामशास्त्रीय दृष्टि से कर ली जाए। वात्सायन कृत कामसूत्र के ”सांप्रयोगिक नामक द्वितीय अधिकरण के रत-अवस्थापन” नामक अध्याय में इस विषय पर कामशास्त्र के विभिन्न शास्त्रीय विद्वानों के मतों की चर्चा की गई है। किंतु ”कामसुख” की व्यापकता की दृष्टि से आचार्य बाभ्रव्य के शिष्यों का मत अधिक स्वीकार्य प्रतीत होता है – ”आचार्य वाभ्रव्य के शिष्यों की मान्यता है – पुरूष के स्खलन के समय आनन्द मिलता है और उसके उपरान्त समाप्त हो जाता है। किन्तु स्त्री को संभाग में प्रवृत्त होते ही संभोगकाल तक और उसकी समाप्ति पर निरन्तर आनन्द की अनुभूति होती है। यदि भोग में उसे आनन्द न आता होता तो उसकी भोगेच्छा जाग्रत ही नही होती और यदि भोगेच्छा न होती तो वह कभी गर्भधारण नही कर पाती। उसका गर्भ स्थिर नही रह पाता।” अन्तिम वाक्य से सहमति नहीं भी हो सकती है किंतु पूर्वार्ध से आचार्य बाभ्रव्य सहित वात्सायन भी सहमत नजर आते हैं।” इसी विषय पर श्री काल्याणमल्ल विरचित अनगरंग अनुवादक श्री डा0 रामसागर त्रिपाठी का मत जानना भी समीचीन होगा। कल्याणमल्ल दो महत्वपूर्ण बात करते हैं। वह स्त्री और पुरूष के यौनसुख में आनन्द के स्वरूप और काल की दृष्टि से भेद स्वीकार नही करते हैं। स्त्री इस क्रिया में आधार है और पुरूष कर्ता है। पुरूष भोक्ता है अर्थात वह इस बात से प्रसन्न है कि उसने अमुक महिला को भोगा है और महिला इस बात से प्रसन्न है कि वह अमुक पुरूष द्वारा भोगी गई है। इस प्रकार स्त्री पुरूष में उपाय तथा अभिमान में भेद होता है। अस्तु:! इस विषय पर और चर्चा न करके यह स्वीकारणीय तथ्य है कि – ”यौन क्रिया में पुरूष को सुख की प्राप्ति स्खलन पर होती है उसके लिए शेष कार्य यहां तक पहुंचने की दौड़मात्र है जबकि स्त्री प्रथम प्रहार से आनन्दित होती है और अन्तिम् बिन्दु पर चरमानन्द को प्राप्त करती है।” वार्ता करने पर कुछ महिलाओं ने इस तथ्य की पुष्टि की है किंतु शालीनता साक्ष्य के प्रकटीकरण की सहमति नहीं देती।

अब जरा इस बात पर ध्यान दें कि यदि नारी असंतुष्ट छूट जाए तो क्या होता है। मेरा मानना है कि वह शनै: शनै: इस प्रवृत्ति को दबाये रखने की आदत डाल लेती हैं इसके कारण उसका शरीर और भावजगत अनेक प्रतिक्रियायें उत्पन्न करता है जिसमे ंउसकी यह गूढ़ प्रवृत्ति भी शामिल है। जो स्वंय के अन्तरमन को पूर्ण अभिव्यक्ति नहीं देती। हिन्दू नारी विमर्श का मूल आधार उसके शरीरगत और भावगत यौनानुभूतियों का वैषम्य है। इसे किस प्रकार हिन्दू नारी विषयक वैदिक चिंतन अभिव्यक्त करता है। उन्हें इन शीर्षकों में देखना उचित होगा।

वर चयन की स्वतंत्रता एवं विवाह :- यदि वैदिक साहित्य का अनुशीलन किया जाए तो यह स्वत: स्पष्ट हो जायेगा कि स्त्रियों को वर-चयन में स्वतंत्रता प्राप्त थी। डा0 राजबली पाण्डेय अपनी पुस्तक हिन्दू संस्कार के अध्याय आठ ”विवाह संस्कार” में विवाह के उद्भव पर प्रकाश डालते हुए कहते हैं – ”प्रसवावस्था के कठिन समय में अपने व असहाय शिशु के समुचित संरक्षण के लिए स्त्री का चिन्तित होना स्वाभाविक ही था। जिसने उसे स्थायी जीवन सहयोगी चुनने के लिए प्रेरित किया। इस चुनाव में वह अत्यन्त सतर्क थी तथा किसी पुरूष को अपने आत्म समर्पण के पूर्व उसकी योग्यता, क्षमता व सामर्थ्य का विचार तथा सावधानीपूर्वक अन्तिम निष्कर्ष पर पहुंचना उसके लिए अत्यन्त आवश्यक था।” इस विषय को महाभारत में वर्णित ”प्राग् विवाह स्थिति से भी समझा जा सकता है, ”अनावृता: किल् पुरा स्त्रिय: आसन वरानने कामाचार: विहारिण्य: स्वतंत्राश्चारूहासिनि॥ 1.128

अर्थात अति प्राचीन काल में स्त्रियां स्वतंत्र तथा अनावृत थीं और वे किसी भी पुरूष के साथ यौन सम्बन्ध स्थापित कर सकती थी।”
इस स्थिति से समझौता कर उन्होने विवाह संस्था को स्वीकार किया होगा तो यह तो संभव नही कि पूर्णत: पुंस आधिपत्य स्वीकार कर लिया हो अर्थात पुरूष जिससे चाहें विवाह कर ले और स्त्री की इच्छा का कोई सम्मान न हो। वर चयन की स्वतंत्रता के समर्थन में यह तर्क भी दिया जा सकता है कि ”औछालकि पुत्र श्वेतकेतु” को विवाह संस्था की स्थापना का श्रेय जाता है और यह कि इन महर्षि की गणना ”कामशास्त्र” के श्रेष्ठ आचार्यों में की जाती है। अत: विवाह संस्था की स्थापना करते समय इस ऋषि ने स्त्री की यौन प्रवृत्तियों का ध्यान न रखा हो, यह संभव नही।

एक अन्य उदाहरण के रूप में इस पुराकथा को प्रमाणरूप ग्रहण किया जा सकता है। – ”मद्रदेश के राजा अश्वपति की पुत्री सावित्री अत्यंत रूपवती थी। उसने अपने लिए स्वंय पर खोजना प्रारम्भ किया और अन्त में शाल्व नरेश सत्यवान का चयन कर विवाह किया।” यह वही सावित्री है जिसने यमराज से अपने पति सत्यवान के प्राण वापस ले लिए थे और हिन्दू मानस में जो सती सावित्री के नाम से प्रसिध्द हुई। डा0 राधा कुमुद मुखर्जी ”हिन्दू सभ्यता” अध्याय 7 भारत में ऋग्वेदीय ”आर्य – समाज – विवाह और परिवार” पृ0 91 में यह स्वीकार करते हैं कि – ”विवाह में वर वधू को स्वंयवर की अनुमति थी (10/27/12 ऋग्वेद) गुप्त काल में ”कौमुदी महोत्सव” मनाये जाने के प्रमाण मिलते हैं कौमुदी महोत्सव वस्तुत: मदनोत्सव या कामदेव की पूजा का ही उत्सव था। ऐसे उत्सव जहां बच्चो, प्रौढ़ो तथा वृध्दों के लिए सामान्य मनोरंजन ही प्रदान करते हैं वही युवक-युवतियों के लिए पारस्परिक चयन की स्वतंत्रता प्रदान करते थे। आज भी ”बसन्त पंचमी” का त्यौहार मनाया जाता है जो कामदेव की पूजा ही है। ”बसन्तपंचमी” से होली का महोत्सव या फाल्गुनी मस्ती और हंसी ठिठोली छा जाती है। इस मदनोत्सव का समापन ”होलिका दाह” पर होता है और होली के पश्चात ”नवदुर्गो” के पश्चात लगनों से विवाह कार्यक्रम शुरू हो जाते हैं।
 …….  ( क्रमश:)

सम्पादन – श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’

वैदिक परिप्रेक्ष्य और यौनिक स्वच्छ्न्दता की तलाश में आधुनिक पाश्चात्यवादी नारी कुंठा (भाग – 1) [आलेख] – शिवेन्द्र कुमार मिश्र

इस चर्चा से यह भारतीय हिन्दू दृष्टिकोण स्वत: स्पष्ट है कि भौतिक सुखों के केन्द्र में है – ”नारी और यौन सुख अर्थात सेक्स है। इस प्रकार ”हिन्दू नारी विमर्श” के लिए नारी की यौन संतुष्टि, उसके यौनाधिकार और उसकी संतानोत्पत्ति का अधिकार केन्द्र में आ जाता है। वेदों, उपनिषदों, आरण्यकों एवं नीति ग्रंथो में इसकी चर्चा है। अथर्ववेद में तो इस पर विस्तृत चर्चा देखी जा सकती है ….

हम जब भी स्त्री-विमर्श की चर्चा करते हैं तो यह चर्चा स्त्री-पुरूष समानता के चौराहे से चलकर स्त्री की देह पर समाप्त हो जाती है। लैंगिक समानता का अभिप्राय जहां एक ओर पुरूष के साथ काम के अवसरों की समानता से लगाया जाता है वहीं दूसरी ओर उसकी यौनिक आजादी से भी। मेरा मानना है कि स्वतंत्रता की अन्य विधाओं की तरह यौन संबंधी आजादी दिए जाने में भी कोई परहेज नहीं होना चाहिए बशर्तें इस बात का ध्यान रखा जाए कि जहां से मेरी नाक शुरू होती है वहीं से आप की आजादी समाप्त हो जाती है। किंतु महिलाओं के क्षेत्र में यही पेंच है। मसलन अगर कोई महिला शार्ट नेकर या माइक्रो मिनी स्कर्ट के साथ स्पोटर्स ब्रा पहन कर सार्वजनिक मार्ग पर घूमना चाहे तो उस पर अश्लीलता के आरोप में कानूनी कार्यवाही हो सकती है। यह देश आज भी किसी युवा स्त्री के सार्वजनिक स्थान पर नग्न होने की धमकी मात्र से सहम जाता है और फिर रूपहले पर्दे पर देख-देखकर अपने सपनों में ”चेयर खींचने के 

बाद (दीपिका की) स्कर्ट खींचने” को बेताब तमाम, बेटा, बाप और बाबा की उम्र के पुरूष एक साथ अपने-अपने मन में ख्बाब सजाने लगते हैं। नारीवादी महिलाएं इस तथ्य को नारीवादी अधिकारो में शामिल किए जाने पर बहस कर सकती हैं।

इस संस्कृति से एक ओर जहां ”सोशलाइट नारी” निकलती है वहीं दूसरी ओर वह नारी दिखाई देती है जिसकी ”देह” साम्राज्यवादी – बाजार वाद में स्वंय के नित नए रूप प्रदर्शित करती है। एक शब्द ”ग्लैमर” ने ”नारी-बाजार-वाद और वस्त्र-वातायन से झांकते नारी देह दर्शन को” पर्यायवाची बना दिया है। अभी थोड़े दिनों पूर्व महिला टेनिस में ग्लैमर के नाम पर खिलाड़ियों को ”माइक्रो टाइप” स्कर्ट को टेनिस प्रबंधन द्वारा अनिवार्य करने पर मीडिया में बहस छिड़ी थी सामान्यत: महिला खिलाड़ी शार्ट्स (छोटे नेकर) पहन कर ही खेलती है जिनमें जांघो का पर्याप्त हिस्सा खुला ही रहता है तो फिर और ”ग्लैमर” क्या ? बाजार बाद देखिए इस प्रश्न पर कोई बहस नहीं। मैं बताता हूं कि ”मिनी स्कर्ट” खेल के दौरान जब उडेग़ी तो कैमरों की ”फ्लश लाइटस” के बीच खिलाड़ी की ”पेन्टी दर्शना” तस्वीरें भी एक बड़े ब्राण्ड के रूप में बिकेंगी। इस मायावी दुनिया को ”पूनम पाण्डेय” के सार्वजनिक रूप से नंगे होने से डर नहीं लगता अपितु अपनी नंगई चौराहे पर खुलने का डर सताने लगता है। ”पूनम” के ”नंगा” होने का तो ”ड्रेसिंग रूम” में स्वागत है इसीलिए एक बयान के बाद ही उसे करोड़ो के शो आफर हो जाते हैं।

किंतु आश्चर्य यह है कि प्रगतिशीलता का लेबल चिपकाए नारीवादी संगठनो की विचारक और नेत्रियां स्वंय को ”फेमिनिस्ट” या नारीवादी कहे जाने के डर से नारी हितों के मुद्दों पर खुलकर बहस करने से बचना चाहती हैं।

इस तरह के बाजार वाद में नारी की स्वतंत्र अस्मिता, पहचान और जरूरतें कहीं शोरगुल में दब जाती हैं और पुरूष के समान अधिकार दिए जाने की धुन में ”पुरूष टाइप महिला” का चित्र उभर आता है। यह महिला बड़ी आसानी से बाजारवादी साम्राज्य वाद की भेंट चढ़ जाती है। यही तथा कथित आधुनिक महिला है जो उच्च वर्गीय पार्टियों में अल्प वस्त्रों और शराब की चुस्कियों के साथ पुरूष के साथ डांस पार्टियों का मजा उठाते हुए पुरूष के समान अधिकार प्राप्त करने, उसके साथ बराबरी में खड़ा होने और आधुनिक होने का दम भरती है और आसानी से बिना जाने बाजार वाद और पुरूष शोषण का शिकार हो जाती है।

यही है आधुनिक पाश्चात्यवादी नारी-विमर्श। हम वैदिक धर्मानुयायियों अर्थात हिन्दुओं पर ”पिछड़ा” होने के आरोप युगों से चस्पा है और नारी के मामले में हमारी सोच को विदेशी ही नहीं हम भी दकियानूसी मानते हैं। ऐसे में ”नारी की आजादी” को मैंने इस चश्मे से ही देखने का प्रयास किया है।

आधुनिक ”नारी-विमर्श” जहां ”पुरूषों के साथ काम की समानता” और ”नारी देह” पर पुंस वर्चस्व” को तोड़ने के मिथ से ग्रसित है वहीं हिन्दू नारी विमर्श ”नारी देह एवं भाव जगत” की मूलभूत आवश्यकताओं को केन्द्र में रखकर रचा गया है। पुरूष दोनो ही जगह लाभ की स्थिति में है किंतु वैदिक व्यवस्था में नारी बाजार वाद की होड़ से थोड़ा दूर है। अपनी यौनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए एक हद तक समाज का समर्थन प्राप्त करती है तो वहीं पुरूष भी समाज में एकाधिकारीवादी वर्चस्व का एकमात्र केन्द्र बन कर नहीं उभर पाता। वस्तुत: यह स्थिति एक ”आदर्श” है जो इतिहास के थपेड़ो से शनै: शनै: टूटते हुए इस हद तक जा पहुंची कि इस विषय पर हम दकियानूसी सोच वाले लोग सिध्द किए जाने लगे।

इस विषय पर नारी की चर्चा बिना उसकी ”देह और यौन” की चर्चा के नही हो सकती। आधुनिक ”बोल्ड नारी” के युग मे मै समझता हूं मेरा आलेख मेरी इतनी ”बोल्डनेस” स्वीकार कर लेगा और मेरे पाठक भी।

नारी की गूढ़ता और पुरूष की स्वाभाविक गंभीरता एवं उच्छंखलता के मध्य उनके यौनागों की बनावट एवं तज्जन्य उसकी अनुभूतियों में कहीं कोई संबंध तो नहीं। इस प्रश्न ने मेरे मन को अनेक बार मथा है। मैं समझता हूं कि भारत संवभत: पहला देश और ”हिन्दू” पहली संस्कृति रही होगी जिसने ”काम” सेक्स को देवता कहा और इस विषय पर विस्तृत शोध ग्रंथो की रचना की। इसकी चर्चा यहां हमारा उद्देश्य नहीं है किन्तु ‘काम’ या ‘सेक्स’ की भारतीयों की दृष्टि में महत्ता को स्पष्ट करना चाहूंगा।

आचार्य वात्सात्यन ने अपने ग्रंथ के मंगलाचरण में लिखा है – ”धर्मार्थकमेभ्य नम:” अर्थात धर्म अर्थ और काम को नमस्कार है।” ‘धर्म’ की वैशेषिक दर्शन की परिभाषा देखें – ”यतोsभ्यदुय नि:श्रेयस सिध्दिस: धर्म:।” अर्थात इस लोक में सुख और परलोक में कल्याण करने वाला तत्व ही धर्म है इस लोक में अर्थात भौतिक संसार में सुख क्या है ?   …….  ( क्रमश:)

सम्पादन – श्रीकान्त मिश्र ’कान्त’

छिनाल .. शब्द अथवा ववाल ……… ? [आलेख] – शिवेन्द्र कुमार मिश्र

चूंकि शब्द प्रयोग ”छिनाल – बेबफा” माननीय कुलपति महोदय ने किया था। अत: मैने हिन्दी के प्रसिध्द विद्वान डा0 हरदेव बाहरी के ”शिक्षक हिन्दी शब्द कोष में इस शब्द का अर्थ तलाश किया। डा0 बाहरी के विषय में उल्लेखनीय है कि उनकी डी-लिट की डिग्री ”शब्दार्थ विज्ञान” …

……..भैय्या ! मैं तो इसीलिए ”बुध्दिजीवी” शब्द से ही घृणा करता हूं और उसे ”रूपजीवा” या ”रूपजीवी” शब्द के समान मानता हूं। अब अप जाने आपके लिए ”बुध्दिजीवी” का अर्थ बुध्दि यानी विवेक की ”वेश्यावृत्ति करने वाला” या ”बुध्दि से बेवफाई करने वाला।” वैसे आप मेरी मुफ्त की सलाह मानें तो मेरी ही तरह ”बौध्दिक” शब्द का प्रयोग कर सकते हैं वह भी मूर्खों में मेरी तरह न कि बुध्दिजीवियों में।

अभी कुछ दिन पूर्व समाचार पत्रों, टी0वी0 चैनलों पर एक बहस छिड़ी थी। एक विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति ने अपने एक साक्षात्कार में महिला लेखिकाओं के लिए ”छिनाल” शब्द का प्रयोग किया। कुलपति महोदय के इस ”शब्द प्रयोग”का प्रतिवाद हुआ। बुध्दिजीवियों ने कहा कि ”छिनाल” शब्द का अर्थ ”वेश्या” होता है तो क्या कुलपति महोदय महिला लेखिकाओं को ”वेश्या’ कह रहे हैं। अब कुलपति महोदय ने वास्तविक ”बुध्दिजीवी कुलाटी” मारी और बयान दिया कि ”छिनाल” से उनका अभिप्राय ”वेबफा” से था। अब यह मेरे जैसे मूर्खों के शब्दकोश में नई ज्ञानवृध्दि थी।

इस बीच कुछ अच्छे शीर्षकों से विभिन्न ”ब्लागों” पर मेरी दृष्टि गई। इस घटना से संबधित एक शीर्षक था – ”हम छिनाल ही भले।” इस बहस में जो पोस्ट दिखाई दिए उनमें जमकर बुध्दिजीवी नंगई स्पष्ट दिखाई दे रही थी। इस पर लिखना तो उसी समय चाह रहा था किंतु अन्य इससे अधिक महत्वपूर्ण विषय हाथ में थे और फिर दैनिक जीवन की व्यस्तताएं।

अब मेरा ध्यान गया ”छिनाल” शब्द की प्रथम परिभाषा ”वेश्या” पर। प्रसिध्द संस्कृत-हिन्दी, शब्द कोश द्वारा श्री वामन शिवराम आप्टे में ‘वेश्या’ शब्द का अर्थ इस प्रकार किया गया है –
वेष्या – (वेशेन पण्ययोगेन जीवति – वेश् + यत् + टाप्) – बाजारू स्त्री, रंडी,
गणिका, रखैल (मृच्छ – 1/32, मेघ0 35)
मृच्दकटिकम् संस्कृत नाटक है और मेघदूतम् महाकवि कालिदास का खण्डकाव्य जिनमें इस शब्द का प्रयोग किया गया है।

इस प्रकार दो शब्द और मिले। रंडी एवं गणिका। जिन्हें संस्कृत शब्द कोष में तलाशा जा सकता था।

रंड: – (रम् + ड) वह पुरूष जो पुत्रही मरे,
रंडा – फूहड़ स्त्री, पुंश्चली, स्त्रियों को संबोधित करने में निन्दापरक शब्द,
रंडे पंडित मानिनि – पंचतंत्र
संभवत: रंड: से ही लोकभाषा में रांड़ और रण्डी शब्द प्रचलित हुआ होगा।
रत् – (मू0क0कृ0) रम् + क्त – प्रसन्नता, खुश

किंतु इससे एक शब्द बना
रतआयनी – वेश्या, रंडी

ऐसा अर्थ किया गया। संस्कृत का एक अन्य समानार्थी शब्द मिला –

गणिका – (गण् + ठञ + टाप्) रण्डी, वेश्या – गुणानुरक्ता गणिका च यस्य बसन्तशोभेव वसन्तसेना – मृच्छंकटिकम
इससे मिलते-जुलते अर्थ वाले एक अन्य शब्द का संस्कृत साहित्य में प्रयोग हुआ है – ”रूपजीवा”

रूपम – (रूप : क्, भावे अच् वा) – आजीवा – वेश्या, रंडी, गणिका

जहां तक ”छिनाल” शब्द का अभिप्रेत है तो एक शब्द मिला।
छिन्न – (भू0क0कृ0) छिद् + क्त) – छिन्ना – वारांगना, वेश्या

इसी तरह से ”वारांगना” शब्द भी ‘वेश्या’ अर्थ में अभिप्रेत मिला।
वार: – (वृ + घञ्) – सम: – अंगना – नारी, युवति, योषित, वनिता,
विलासिनी – सुन्दरी – स्त्री

अर्थात ”वार:” शब्द के साथ इनमें से कोई भी शब्द जोड़ लिया जाए तो उसका अर्थ होगा –
”गणिका, बाजारू औरत, वेश्या, पतुरिया, रण्डी। ”वैश्या” के अर्थ में एक अन्य शब्द मिला।
वारवाणि: या वारवाणी – वेष्या

इतने श्रम के पश्चात भी ‘वेश्या’ के तमाम अर्थ तो मिले जो ”छिनाल” का अर्थ बताया गया था, किंतु ”छिनाल” शब्द संस्कृत -हिन्दी कोश में नही मिला। यद्यपि मिलते-जुलते उच्चारण वाला ”छिन्ना” शब्द मिला जिसका अर्थ भी ‘वेश्या’ था।

चूंकि शब्द प्रयोग ”छिनाल – बेबफा” माननीय कुलपति महोदय ने किया था। अत: मैने हिन्दी के प्रसिध्द विद्वान डा0 हरदेव बाहरी के ”शिक्षक हिन्दी शब्द कोष में इस शब्द का अर्थ तलाश किया। डा0 बाहरी के विषय में उल्लेखनीय है कि उनकी डी-लिट की डिग्री ”शब्दार्थ विज्ञान” में ही है। उनके शब्दकोष में ”छिनाल” शब्द का अर्थ था।
छिनाल – (वि0) पर पुरूषों से संबध रखने वाली (स्त्री) दुश्चिरित्रा स्त्री-पुंश्चली।
एक अन्य मिलते जुलते शब्द ”छिनार” का भी यही अर्थ है।
छिनार – (स्त्री) व्यभिंचारिणी स्त्री, पुंश्चली

मैं एक वाक्य प्रयोग करता हूं। मैं अपने मित्र से कहता हूं कि ”यार ! ”अमुक” बड़ी ”छिनाल” है वह इसका अर्थ ”वेश्या” समझता है। हां आप चाहें तो ”बेवफा” कह सकते हैं भैय्या ! मैं तो इसीलिए ”बुध्दिजीवी” शब्द से ही घृणा करता हूं और उसे ”रूपजीवा” या ”रूपजीवी” शब्द के समान मानता हूं। अब अप जाने आपके लिए ”बुध्दिजीवी” का अर्थ बुध्दि यानी विवेक की ”वेश्यावृत्ति करने वाला” या ”बुध्दि से बेवफाई करने वाला।” वैसे आप मेरी मुफ्त की सलाह मानें तो मेरी ही तरह ”बौध्दिक” शब्द का प्रयोग कर सकते हैं वह भी मूर्खों में मेरी तरह न कि बुध्दिजीवियों में।


शिवेन्द्र कुमार मिश्र
आशुतोष सिटी, बरेली उ. प्र.।

ब्राह्मणों की बौद्धिक पराजय और वेंटिलेटर पर जिन्दा हिन्दू समाज [आलेख] शिवेंद्र कुमार मिश्र

[वसन्तपंचमी से हिन्दू समाज में……..क्या हम उग्र इस्लामी समाज की प्रतिक्रिया स्वरुपहिन्दू तालिबानी‘ तो पैदा नहीं कर रहेजो समाज निरन्तर आत्ममंथन और चिन्तन नहीं करता वह समाज वेन्टीलेटर‘ पर जिन्दा रहता है और एक जीवित समाज के सभी लक्षण खो देता हैतो यह सोचना भी प्रासंगिक होगा कि क्या हम जीवित समाज कहलाने के लायक हैं या नहीं.]

.       आइये स्वागत करें ऋतुराज बसन्त का बसन्त का आगमन ऋतु परिवर्तन का कारक तो है ही इसके साथ ही मन के भाव परिवर्तन का कारक भी है. बसन्त के आगमन के साथ ही खेतों में पीली चूनर ओढ़े प्रकृति नायिका यौवन श्रृंगार कर नाचने लगती है. वृक्षों पर नए नए पत्ते आ जाते हैं मानों जवान होते युवक के चेहरे पर मूछें निकलने लगी हों. हर ओर छा जाती है मादकतामचलने लगता है मनमयूरसंगिनी संग नत्य को….. और नायिकाएं मनभावन पिया की बाहों में मचलने को पागल होने लगती हैं.  क्या सुखद आश्चर्य है कि पाश्चात्यों का वेलेन्टाइन डेभी इसी समय पर पड़ता है.

 प्रश्न  यह भी है कि क्या व्यक्ति की निजता का कोई मूल्य हिन्दू समाज ओर राज्यके लिए है?  उसका कोई मूल्य है?  क्या हमारा संविधान जो व्यक्ति की स्वंतत्रता का उदघोष करता है उसके सरंक्षक अपने कर्तव्यों के प्रति सावधान हैं? हिन्दू समाज के मनीषियों को यह भी तय करना होगा कि युवा स्त्री को वरचयन काअधिकार दिया जाना चाहिए या नहीं. क्या हम उग्र इस्लामी समाज की प्रतिक्रिया स्वरुप हिन्दू तालिबानीतो पैदा नहीं कर रहे.

वसंतोत्सव के दो रुप भारतीय हिन्दू समाज में प्रचलित हुए. एक वह रूप जो हमारे ब्राह्मणवादी  समाज होने की आलोचना से जुड़ा है. अर्थात अधिक नैतिक और अधिक कर्मकाण्डी होना. वसंतोत्सव में इसका रूप देवी सरस्वती के पूजन से जुड़ा है. माघशुक्ल पंचमी अर्थात बसन्तपंचमी, सरस्वती पूजन और उपनयन संस्कार के लिए शुभ मान जात है। वसन्तेब्राम्हणमुपनयेतयह तथाकथित अतिशय नैतिकतावादी आचरण मानवीय स्वाभाविकता, उसकी उत्सवप्रियता शरीर की स्वाभाविक भूखआहारनिद्राभयमैथुनानिआदि के मूल्य पर समाज को परोसा जाने लगा. इसने न केवल व्यक्ति की निजता का हरण कर लिया अपितु समाज की स्वाभाविक गति पर भी विराम लगा दिया जो आज तक बाधा का काम कर रहा है.  संभवत: समाज को अतिशय नैतिक और कर्मकाण्डी बनाने का दिशाबोध ब्राम्हणों के अपने बौद्धिक पतन और आत्मसम्मान खो जाने के मनोभय से उत्पन्न हुआ होगा. कहना कठिन है कि यह हीनग्रन्थि किस समय से ब्राम्हण वर्ग में उत्पन्न हुई होगी.  यद्यपि यह ऐतिहासिक शोध का बिषय है तथापि संभव है यह 600 ईषा पूर्व में समाज में जो उथल पुथल हो रही थी. जिसमें महात्मा बुद्ध और महावीर जैन जैसे समाज सुधारक दार्शनिकों ने अपना योगदान दिया और समाज में ठहराव और विभ्रम की स्थिति को दूर करने का प्रयत्न किया. उस समय की स्थितियों मे संभव है ब्राहमणों ने अपनी आत्मरक्षा के लिए कर्मकाण्ड को अधिक प्रेरित किया होगा और जैनियों तथा बौद्धों से तुलना करते हुए समाज को अधिकाधिक नैतिकता की ओर झोंकना प्रारम्भ कर दिया होगा. इसकी पुष्टि पातंजलिकृत संस्कृत व्याकरण ग्रंथ महाभाष्यमें मूर्तिऔर मूर्तिकारशब्दों के प्रयोग से होती है. पतंजलि को पुष्यमित्र सुंग का समकालिक माना जाता हैं. पुष्यमित्र का काल 100 बी सी मान्य है। भारतीय हिन्दू समाज में यदि मन्दिर निर्माण कला को तिथिबद्ध किया जाए तो गुप्तकाल से यह कुशलता समाज मे और प्रतिष्ठा पाने लगी. इतिहास में गुप्त शासकों का काल 319 बी सी 585 बी सी माना जाता है। जाता है. 11वीं और 12वीं सदी मूर्ति और मन्दिर निर्माण की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. उत्तरप्रदेश के जनपद कानपुर के निकट भीतर गांव नामक स्थान पर स्थित मन्दिर गुप्तकालीन माना जाता है. यह मन्दिर हमारी मन्दिर निर्माण कला का प्रारम्भिक नमूना माना जा सकता है.

अधिक विषयान्तर में न जाकर यह कहना चाहूँगा कि ईषा पूर्व प्रथम सदी ने ब्राह्मणों के बौद्दिक पलायन के कारण मूर्ति पूजा के बीज डाले जो १२वीं सदी तक वटवृक्ष बन गए. हिन्दी भक्तिकाल का युग अर्थात 16वीं 17वीं सदी ने मन्दिरों की मूर्तियों को विघ्नविनाशक मंगलकारक मोक्षप्रदायक सर्वमंगलमांगल्येबना दिया.  धीरे धीरे यह गुण पशु पक्षियों पर्वतों नदियों यहॉ तक कि यह सरलीकरण त्योहारों कथाओं व्रतों उपवासों कहॉ तक कहूँहरि अनन्त हरि कथा अनन्ताकी भॉति सर्वत्र व्याप्त हो गया। ब्राह्मणों की बौद्धिक पराजय ने हिन्दू समाज को धर्मभीरु कायर नपुंसक बना दिया। गोस्वामी तुलसीदास के राम और उनकी रामकथा ने समाज को अतिशय नैतिक बनने का दिशा बोध दिया जो व्यवहार शून्य और एक हद तक असामाजिक था. कृष्ण भक्तों और उनके आन्दोलन ने समाज का धार्मिक कार्य नाचने गाने तक सीमित कर दिया. हिन्दू समाज महान नैतिक किन्तु व्यवहारिक और मानवीय मूल्यों से ओतप्रोत दिशाबोध से वचिंत कर दिया गया. जब समाज इतने भयंकर उथल पुथलसे गुजर रहा था और गुजर रहा है तो भला बसन्त और उसके आगमन पर मनाए जाने बाले उत्सवों की क्या बिसात जो इससे बच जाते. अस्तु! वसंतोत्सव का कामोद्दीपक और रागोद्दीपक उत्सव भी ब्राह्मणों की कर्मकाण्डी नजरों की भेंट चढ़ गया.  अब वसंतोत्सव मात्र पाटी पूजन उपनयन संस्कार शिक्षा प्रारम्भ करने की तिथि मात्र बन कर रह गया.

मनुष्य सदा से उत्सवधर्मी रहा है.. स्त्री पुरुषों का साथ साथ उठना बैठना नाचना गाना यह स्भाविकता है. आकर्षण प्रकृति का धर्म है. हमारे वैदिक ऋषियों ने इसे पहचाना भी और इसके मनोवैज्ञानिक प्रभाव को व्यक्ति और समाज दोनो के ही हित में मूल्यांकित किया. डॉ राधाकुमुद मुखर्जी ने अपनी पुस्तक हिन्दू सभ्यता मेंबताया है कि ऋग्वैदिक काल से ही स्त्री और पुरुष दोनों ही झांझ मजीरों और अन्य वाद्यों के साथ नृत्य में साथ साथ भाग लेते थे आघाटि10/146/2′. वात्सायन ने कामसूत्र में घटानिबन्धानिशब्द का प्रयोग किया है ब्याख्याकारों ने जिसका अर्थ विभिन्न उत्सवों में देवस्थान पर जाकर सामूहिक नृत्य गान आदि के आयोजन में भाग लेना माना है. कामसूत्र में जिन उत्सवों की चर्चा की गयी है उनमें वसंतोत्सव भी शामिल है. यक्षरात्रि: कौमुदी जागर: सुवसन्तक:। वात्सायन वसन्त्ऋतु के उत्सव पर स्त्री पुरुषों द्बारा सामूहिक रुप से खेले जाने वाले खेलों का भी उल्लेख करतै हैं। सहकारभज्जिंका अष्यूषखादिका बिसखादिका नवपात्रिका उदकक्ष्वेडिका पांचालानुयानम एकषाल्मली कदम्बयुध्दानि तास्ताश्च माहिमान्यो देश्याश्च क्रीडाजनेभ्यो विशिष्टमाचारेयु: इति संभूयक्रीडा।

इन उदाहरणों का उद्देश्य तथ्यपूर्ण ढंग से यह सिद्ध करना है कि भारत और हिन्दू समाज में स्त्री पुरुषों के साथ साथ संव्यवहार करने की परम्परा वेदकाल तक प्राचीन है. यह तो स्वत: स्पष्ट ही है कि ऐसे आयोजनों में युवा स्त्री और पुरुष ही अधिकाधिक संख्या में भाग लेते थे. आज भी ऐसे आयोजनों में युवक युवतियों की संख्या ही ज्यादा रहती है. वेलेन्टाइन डेके प्रेमयुगल और होली की मस्ती में किसी कामिनी के गोरे गालों पर रंग लगाने को आतुर युवक की व्याकुलता सब कुछ बयॉ कर देती है. होली की मस्ती में ऐसी कौन युवती होगी जो अपने प्रियतम की बाहो में सिमटकर होली के रंगों में सराबोर न होना चाहे।ऐसा कौन प्रौढ और वृद्ध होता है जो होली में बहकना नही चाहता. लोकगीत सबके मस्त हो जाने के भाव से भरे हैं होली में बाबा देवर लागें होली में‘ . आश्चर्य है कि ऐसी रंग भरी मस्ती भरी संस्कृति के तथाकथित आधुनिक रक्षक वेलेन्टाइन जोडों को अपमानित करके संस्कृतिरक्षा का गौरव अनुभव करते हैं और इन संस्कृतिपशुओं को मानवों के संसार से डंडे मारकर खदेड़ने वाला कोई नहीं

एक अन्तिम तथ्य और प्रस्तुत करते हुए मैं अपनी बात समाप्ति की ओर ले जाउंगा. ऋतुराज वसन्त के आगमन का प्रथम दिवस वसन्तपंचमी है और होलिकोत्सव का प्रारम्भ भी वसन्तपंचमी से ही होता है. इस दिन प्रथम बार गुलाल उड़ाई जाती है जिसका अन्त फाल्गुनपूर्णिमा को होता है. रास के रचैया भगवान श्री कृष्ण हालिकोत्सव के अधिदेवता हैं चरकसंहिता में लिखा है कि वसन्तऋतु में स्त्री रमण तथा वनविहार करना चाहिए.कामदेव वसन्त के अनन्य सहचर हैं. अतएव कामदेव और देवी रति की पूजा भी इस तिथि को की जाती है. वसन्तपंचमी से हिन्दू समाज में विवाह कार्यक्रम प्रारम्भ किए जाते हैं जो होलिकोत्सव के आठ दिन पूर्व होलिकाष्टकतक निरन्तर चलते रहते हैं. लगनका यह सिलसिला होली के पश्चात नवदुर्गा से ही प्रारम्भ होता है. मुझे समझ में नहीं आता कि प्रेम, काम, राग, आकर्षण एवं स्त्री पुरुष के सम्मिलन की इतनी सशक्त वैज्ञानिक और दृढ सांस्कृतिक परम्परा होते हुए भी कोई जीवित समाज कतिपय हुड़दंगियों और उदण्ड सैनिकों को यह तय करने का अधिकार कैसे दे सकता है कि किस युवा स्त्री को किस पुरुष के साथ संबन्ध रखना चाहिए. किसकोकिसके साथ घूमना चाहिए. प्रश्न यह भी है कि क्या व्यक्ति की निजता का कोई मूल्य हिन्दू समाज ओर राज्यके लिए है?  उसका कोई  मूल्य है?  क्या हमारा संविधान जो व्यक्ति की स्वंतत्रता का उदघोष करता है उसके सरंक्षक अपने कर्तव्यों के प्रति सावधान हैं? हिन्दू समाज के मनीषियों को यह भी तय करना होगा कि युवा स्त्री को वरचयन काअधिकार दिया जाना चाहिए या नहीं. क्या हम उग्र इस्लामी समाज की प्रतिक्रिया स्वरुप हिन्दू तालिबानीतो पैदा नहीं कर रहे. जो समाज निरन्तर आत्ममंथन और चिन्तन नहीं करता वह समाज वेन्टीलेटरपर जिन्दा रहता है और एक जीवित समाज के सभी लक्षण खो देता है. तो यह सोचना भी प्रासंगिक होगा कि क्या हम जीवित समाज कहलाने के लायक हैं या नहीं.

इति समाप्तम्

शिवेंद्र कुमार मिश्र

आशुतोष सिटी,

बरेली ( उ. प्र.)

 

मुक्तिद्वार की सीढियां …[कहानी] श्रीकान्त मिश्र ‘कान्त’

“हेलो “


” हेलो… आज इतने दिनों बाद “

” हाँ आज तुम्हारा स्मरण बहुत आवेग के साथ कर रहा था “

” सच पूछो तो मैं भी कल से ….”
” क्लासेस …? डिस्टर्ब तो नहीं ….. “

” नहीं .. नहीं … अभी फ्री हूँ. स्टूडेंट्स एनुअल फंक्शन की रिहर्सल में बिजी हैं . इतने दिनों बाद कम से कम आधा घंटा तो हम बात कर ही सकते हैं. वैसे भी तुम बात करने में बहुत कंजूस हो “

” … सच पूछो कल से बहुत ही अन्यमनस्क अनुभव कर रहा था”
” फिर इतना बिलम्ब कैसे ..? कल ही क्यों नहीं काल किया. तबियत ठीक है ना.. तुम भी .. “


” नहीं नहीं .. ऐसा कुछ नहीं. बस पिछले कुछ दिनों बहुत अकेला सा अनुभव किया. जीवन की आपाधापी भरी तंग गलियों से जब भी गुजरा.. हरबार संभवतः उसी मोड़ पर पहुँच गया जहाँ पर कई बार अपनी परछाई तलाश करने लगता हूँ … मेरा स्वभाव तुम्हें पता ही है “

” वैसे मैं भी इस बार तुमसे बहुत नाराज़ हूँ … शायद थी अब नहीं. सोचा इस बार कोई फोन नहीं करूंगी… बहुत स्वार्थी हो गए हो …. बस नाम… नाम और काम. शायद मेरा अस्तित्व अब कहीं नहीं. इन दिनों तुम्हारे बारे में बहुत सोचा. जब भी याद किया… बस यही तय किया कि जब तक तुम्हारा काल नहीं आएगा, फोन नहीं करूंगी “

” थैंक्स… पता नहीं इसे क्या कहें जब भी मुझे या तुम्हें, दूसरे की तीव्र अनुभूति होती है, अगले की काल अपने आप ही आ जाती है “

” तो स्वयं की परछाई मिली ……”

” … संभवतः एक नाम …. एक सुखद सा अहसास … जब मन में थोड़ा झाँका और पास गया ..पहचाना … यह तो तुम्हारा ही चेहरा था…..”

” ऐसा कैसे होता है …. ? “


” कैसा …!!! “

” हम दोनों जीवन में अब तक मात्र एक बार मिले हैं और वह भी एक सार्वजनिक कार्यक्रम में. निजी जीवन में अपने अलग अलग क्षेत्रों में व्यस्त होने के बाद भी लगता है कि युगों से एक साथ ही चल रहे हैं. है ना यह आश्चर्यजनक ? “

” हाँ यह है तो … शायद ही कोई हमारी बात पर विश्वास कर सके ….. “

” किंतु हम जानते हैं कि यही सत्य है .. उस एक बार की हमारी संक्षिप्त सी भेंट और औपचारिक हाथ मिलाने का स्पर्श … लगता है जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है. जीता जा रहा हूँ तब से….. अब तक का लंबा अंतराल कैसे गुजर गया पता ही नहीं चला “

” तुम्हारी सारी बातें मुझे अब तक याद हैं. एक दिन तुमने कहा था ‘मुझे लगता है कि हमारे मानवीय जीवन की डगर का कोई ऐसा आयाम भी है जो सर्द रात्रि में भावना की गरमी और जीवन के जटिल संघषों की तपिश में एक घनेरी छाँव बनकर आकारहीन और आधारहीन होते हुए भी एक स्वरुप बनकर हमारे साथ हो लेता है ’ “

” ….. सच में जब भी थकता हूँ … खोजता हूँ स्वयं को … अंतस में तुम्हारा चेहरा उभरने लगता है. “

” .. हूँम्मऽ.. बस कहते रहो …. मन का सारा प्रस्तार बाहर आने दो “

“तुमने अपने बारे में आज तक मात्र एक बार इतना ही बताया कि तुम विवाहित हो. आगे तुम्हारी अनिच्छा के कारण मैंने अब तक तुम्हारे बारे में कुछ भी जानने की चेष्टा नहीं की. किंतु आज बताना चाहता हूँ कि जब भी अपना अस्तित्व तलाश करने का प्रयास करता हूँ.. अंतस में बस तुम्हारा ही स्मरण आता है और मैं ध्येय कामना विहीन निराबोध शिशु सा तुम्हारी ओर निहारने लगता हूँ “

“… हा हा… तुम इतने निराबोध हो …? “

” इसका उत्तर तो तुम ही दे सकती हो, स्वयं को और मुझे भी. फिर भी संभवतः सर्वज्ञ होने का हमारा दंभ ही हमें बहुत बेचैन करता रहता है. यही कारण है कि तुम्हारे सान्निध्य में एक निराबोध शिशु सा होकर मैं बहुत ही सहज अनुभव करता हूँ………”

” रहने भी दो…आनलाइन ही सही किन्तु वर्षों से तुम्हें जानती हूँ, लगता है चाटुकारिता के विद्यालय में पहली बार प्रवेश लिया है. यह तुम्हारे वश की बात नहीं. तुम जैसे हो वैसे ही अच्छे लगते हो … “

” नहीं ….ऐसा नहीं है. कह लेने दो मुझे.. आज जो अनुभव हो रहा है वही तुमसे कहा …. ”

” ओह गाडऽ …. ! तो तुम किसी स्थान पर मन्दिर के किनारे…. क्या संसार में कोई विश्वास कर सकेगा कि अपने समय का ख्यातिनाम ब्लागर और रचनाकार… कंप्यूटर और अंतरजाल से परे किसी अनाम आश्रम का वासी होकर… !!! “

” नहीं नहीं .. ऐसी कोई बात नहीं है बस प्रकृति की गोद में… जगत्जननी पृथ्वी और स्रष्टि के आलोक में… इसके सान्निध्य में स्वयं को ढूंढ रहा हूँ …. तुम ई – मेल कर सकती हो … मैं साप्ताहिक रूप से किसी श्रद्धालु के लैपटाप पर….. “



” हूँम्मऽ…. आज सोचती हूँ कि साइबर संपर्कों में गाम्भीर्य का नितांत अभाव और शाब्दिक नग्नता से आहत जब मैंने यह तय किया था कि तुम्हारे जैसे गंभीर रचनाकार की नेट पर वास्तविकता को परख कर ही रहूंगी तो यह कभी नहीं सोचा था कि तुम नेट पर भी संन्यासी जैसी बातें ही करोगे. राष्ट्रप्रेम, दर्शन .. अध्यात्म और यही सब दुरूह बातें.साईबर वर्ल्ड में तुम्हें दूसरों से भिन्न पाकर आरम्भ में आश्चर्यचकित थी…. अन्यथा मैंने बड़े बड़ों को दो या तीन बार आनलाइन होते ही उनकी औकात पर आते हुए देखा था. सोचती थी कि तुम भी देर सवेर वैसे ही निकालोगे किंतु ऐसा न हुआ “

“छोडो वह सब … हमें पता है कि हमारे जीवन अपने अपने मार्ग पर सहज ढंग से चल रहे हैं. आगे भी इसी प्रकार चलते रहेंगे. कदाचित यह समय समय पर पारस्परिक भावनात्मक निर्भरता हमें बांधे हुए है.इसकी अनुभूति संसार की सभी परिभाषाओं से परे होकर भी अप्रतिम है. क्या है यह …? “

” मैं नहीं जानती … इस बात का उत्तर भी बहुधा तुमने स्वयं ही दिया है. तुम्हारे शब्द ही दोहरा रही हूँ …. यह जीवन की एकाकी नीरसता को भंग करते हुए वय के उत्तरार्ध की, हमारे मन की नैसर्गिक खोजी प्रवृत्ति ही है…. यह शारीरिक आकर्षण न होकर … विशुध्द बौद्धिक और भावनात्मक आवश्यकता है जो जीवन के नीरस ठहराव, स्थायित्व और उससे उपजी जड़ता को चैतन्य प्रदान करने लगती है … उससे लड़ने के लिए वय के ढलाव के प्रतिकूल उसमें ऊर्जा भरती है….. तुमने ही तो इसे परिभाषित किया है कई बार.. फिर …? “

” कहो तुम्हारे मुंह से सुनना अच्छा लगता है… “


” तुमने आज तक विवाह क्यों नहीं किया …?”

” बस … यूँ ही. जब विवाह की अभिलाषा हुयी लगा भावनात्मक जीवन में…मैं तुम्हारी कक्षा में प्रवेश ले चुका था. और वह शिक्षा अब तक पूरी नहीं हुयी”

“ठीक है ठीक है …. अभी स्टूडेंट्स को देखना है.. बर्षों बाद ही सही फ़िर कभी आनलाइन आना होगा ..? ”

” शायद नहीं, बहुत लम्बा अन्तराल हो चुका है. मन्दिर के पार्श्व की सीढियां मुक्तिद्वार से होकर नदी के किनारे बढ़ती हुयी मुख्यधारा से मोक्ष मार्ग तक तो ले जाती हैं परन्तु विज्ञान और बिजली जैसी कोई सुविधा … यहाँ नहीं है “

” ओह गाडऽ …. ! तो तुम किसी स्थान पर मन्दिर के किनारे…. क्या संसार में कोई विश्वास कर सकेगा कि अपने समय का ख्यातिनाम ब्लागर और रचनाकार… कंप्यूटर और अंतरजाल से परे किसी अनाम आश्रम का वासी होकर… !!! “


” नहीं नहीं .. ऐसी कोई बात नहीं है बस प्रकृति की गोद में… जगत्जननी पृथ्वी और स्रष्टि के आलोक में… इसके सान्निध्य में स्वयं को ढूंढ रहा हूँ …. तुम ई – मेल कर सकती हो … मैं साप्ताहिक रूप से किसी श्रद्धालु के लैपटाप पर….. “

” क्या लैपटॉप बाबा बनने का विचार है “

” नहीं नहीं .. वह बेचारा तो राष्ट्रवाद के उन्मुक्त भावना प्रवाह में बहकर सही होकर भी अनुचित दिशा में बह गया. मेरा विचार ऐसा नहीं है. सही विचार को सही मार्ग और दिशा पर चलकर ही वांछित फल प्राप्त करना श्रेयस्कर है अस्तु …. “

” … तुम नहीं सुधरोगे “

” चलती हूँ. इस संवाद को ब्लाग की अपेक्षा हो सकती है. डाल दूँ ?”

” तुम्हारे लौकिक जीवन में मेरा कोई हस्तक्षेप नहीं रहा जो भी करोगी अच्छा लगेगा “

” ठीक है चलती हूँ अभी… अपना ध्यान रखना और यदि सम्भव हो तो काल करते रहना. वैसे मैं भी फोन करती रहूंगी. … अब लगता है… तुम मेरे जीवन की कक्षा के चिरंतन विद्यार्थी हो … तुमसे दूसरी भेंट सीधे मुक्तिद्वार की सीढ़ियों पर शीघ्र ही होगी.. “

“अर्थात ……!!!”

“यह बताने के लिए कि मैंने तुमसे मात्र एक ही झूठ बोला था कि मैं विवाहित हूँ …”

” ओह गाडऽ …. ! तुम भी … हरिओमऽऽ…. “

मैं कड़ुआ हो गया हूँ .. [आलेख] दर्शन – शिवेंद्र मिश्र

(हाय रे..! हिंदू समाज तेरे धर्मनेता समाज को आनंद का रास्ता दिखाते दिखाते स्वयं के लिए सुखो का अंबार लगा लेते हैं और निरीह जनता को दुखों के सागर में डूबकर मरने के लिए छोड़ देते हैं. आनंद और ईश्वर, की बात कहते कहते… और बस…! मेरा मन कसैला होने लगता है….दर्शन)

 इस विशाल विश्व के असीम कोलाहलमय एकांत में बैठे हुए मित्रों से लेकर जनसंकुलता से रहित एकांत में बैठे हुए अत्मकोलाहल से व्यथित मित्रों… मैं आप सबको अपने साथ इस चिंतन में सहभाग करने को आमंत्रित करता हूँ. आप सभी को…. लिंगभेद के बिना.

सोचता हूँ तो लगता है कि मैं आज बहुत कड़ुआ हो गया हूँ…. कसैला. मैं के भीतर का स्वाद.. वह अमृत जाने कहाँ लुप्त हो गया है. यह अमृत गया कहाँ ? सोचना होगा यह अमृत आया कहाँ से था ? जहाँ से भी आया था पर यह तो निश्चित है कि वह उत्स सूख रहा है. एक यह तो सूखना उम्र के पड़ावों के साथ स्वाभाविक है. और इस पर भी इसके राहगीरों और साथियों के द्वारा लगातार फेंकें जा रहे नासमझी भरे पत्थर इस उत्स के सूखने की अवधि को तेजी से और कम करते जा रहे है.

आप भी ऐसा ही सोचते हैं क्या ? …. नहीं….. ! आप ऐसा नहीं सोचते, क्यों ? एक सीधा सवाल पूछता हूँ कि क्या आप उम्र के उस पड़ाव पर नहीं आए अथवा आपके सारे लोग सच्चे ईसाई हो गए हैं और आप भी. क्या कहा कुछ भी कड़ुआ नहीं है. मुझे लगता हैं आप झूठ बोल रहे हैं. 

एक शब्द है सुख . पाश्चात्य विचारकों *मिल और बेन्थम ने इस सुखवाद पर विस्तार से प्रकाश डाला है. अन्य पाश्चात्य विचारकों ने इस चर्चा को आगे बढ़ाया और इसके विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की. पाश्चात्य जगत और उनसे प्रभावित शेष विश्व के लोगो ने व उनकी सरकारों, मीडिया, बौद्धिकों, वैज्ञानिकों और मनीषियों ने इसको इसके सर्वांगीण विस्तार सहित अपनाया . *(Maximaum happiness of maximum people )

 भारतीय मनीषा ने शब्द खोजा, आनंद.  आनंद का उसी तरह कोई विरोधी शब्द नहीं है जैसे सुख का दुःख. आनंद परमशक्तिवान परमात्मा के भाव का आत्मानुभव है . परमात्मा की प्राप्ति के अनेकानेक पंथो में भक्तिमार्ग, कर्ममार्ग, ज्ञानमार्ग, निष्काम कर्मयोग, आदि… किंतु यह मार्ग अहम का पूर्णतया समर्पण और उस परमशक्ति के प्रति एकभाव के होने से ही संभव है. भारतीय मनीषा ने इसे खोजा भी, और स्थापित भी किया. किंतु यह तो सर्वोत्कृष्ट लक्ष्य था, सर्वजनोपयोगी नहीं. आनंद आदर्श था और सुख वास्तविकता. इसलिए भारतीय धर्मगुरु, धर्मवेत्ता, सन्यासी जनता को आनंद के मार्ग पर बढ़ने की प्रेरणा देते रहे और स्वयं के लिए सुख के साधन कार, कोठी, बंगले, भव्य पंचसितारा आश्रम, सुंदर – सुंदर देशी विदेशी षोडशी शिष्यायें जुटाते रहे. समान्य जनता के घर आनंद के मार्ग पर बढ़ते हुए सुखों से वंचित रहे, जबकि आनंद का उपदेश देने वाले साधुओं के पास सुखों का अम्बार लगता गया. भारतीय राजनेता, विचारक, वैज्ञानिक आनंद और सुख, आध्यात्मिकता और भौतिकता के मध्य समाज को द्वंद में उलझाये रहे.

 हमें जीने को एक धरातल चाहिए और आगे बढ़ने को आसमान. आनंद आसमान है और सुख यथार्थ. सुख जीवन का हर भोग है जो क्षणिक तो है किंतु भरपूर मजा देता है. इस क्षणिकता को हम साधन के परिवर्तन से पाटने की कोशिश करते हैं. अगर I-10 कार से मन भर जाए तो हम स्कॉर्पियो खरीद लेते हैं, घर को बंगले में बदल लेते है, यह भोगवाद तो है पर वास्तविकता है, यथार्थ है. जो साईकिल नहीं खरीद सकता वह हवाईजहाज का सफर कैसे कर सकता है. भारतीय मनीषियों ने इस चिंतन को ही अभिव्यक्त किया. आनंद के मार्ग के हर पथिक ने सांसारिक सुखो के पार जाकर स्वयं को खरा किया. सांसारिक सुखो के पार जाने का अभिप्राय पाले से अलग खड़ा होना नही है अपितु भौतिक सुखो को भोगते हुए उसकी निस्सारता का आत्मानुभव किया जाए और आनंद के पथ का पथिक बन जाए. यही आनंद है. यही गीता का आमजन के लिए कर्मयोग है शायद इन्ही अनुभवों को **ओशो रजनीश ने सेक्स को लेकर व्यक्त किया है. जब वह कहते है कि सेक्स हमारे शरीर में न रहकर अधिकांशतः हमारे दिमाग में रहता है. मुझे लगता है यह बात हमारे भारतीय हिंदू समाज पर पूर्णतया लागू होती है. हम सेक्स को नहीं भोगते अपितु सेक्स चिंतन, सेक्स दर्शन, सेक्स मनन, एवं सेक्स उक्तियों को भोगते हैं. यह स्थिति क्या है. **(काम कृत्य भी मानसिक कृत्य बन गया है काम मन में चलता रहता है और तुम उसके विषय में सीचते रहते हो) 

श्रीमद् भगवद् गीता में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं:-

 ध्यायतो विषयान्पुंस: संगस्तेषुपजायते ।

संगात्संजायते कामः कामात्क्रोधोऽभिजायते ॥ 62

क्रोधाद्भवति सम्मोह: सम्मोहात्स्मृतिभ्रमः।

स्मृतिभ्रंशाद बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति 63” 

 ( श्री0 0 गी0 अध्याय 2)

  अर्थात विषयों का चिंतन करने वाले पुरूष का इन विषयों में संग बढ़ता जाता है. फिर इस संग से काम उत्पन्न होता है. काम की प्राप्ति में विघ्न होने से क्रोध उत्पन्न होता है. क्रोध से सम्मोह अर्थात अविवेक उत्पन्न होता है. अविवेक से स्मृतिभ्रम और स्मृतिभ्रम से बुद्धिनाश होता है और बुद्धि के नाश से व्यक्ति नष्ट हो जाता है.

 मैं गीता का कोई उपदेशक विद्वान तो नहीं किंतु एक सामान्य व्यक्ति के रूप में उक्त श्लोकों पर मनन करें तो निश्चित रूप से हमारा हिंदू समाज उपरोक्त उक्ति के प्रभाव से पूर्णतया ग्रसित है. मेरा मानना है कि यदि व्यक्ति के स्थान पर समाजों, संस्कृतियों और राष्ट्रों के विषय में मूल्यांकन करें तो इस्लाम और इस्लामिक राष्ट्र तथा हिंदू समाज कम से कम ये दो संस्कृतियां है जो ध्यायतो विषयान्पुंस: से ग्रसित है और इसके प्रभाव को भी भोग रहे है. समाज के धर्मनेता, समाजसुधारक, परिवार के मुखिया, शिक्षालयों के तथाकथित वेतनभोगी गुरुजन कोई भी तो सुख और आनंद के दोराहे से… एकरास्ते होकर नहीं ले जाता. बस…! यह सोचकर और देखकर मेरा मन कड़ुआ हो जाता है कि हाय रे..! हिंदू समाज तेरे धर्मनेता समाज को आनंद का रास्ता दिखाते दिखाते स्वयं के लिए सुखो का अंबार लगा लेते हैं और निरीह जनता को दुखों के सागर में डूबकर मरने के लिए छोड़ देते हैं. आनंद और ईश्वर, की बात कहते कहते… और बस…! मेरा मन कसैला होने लगता है….

 24 – आशुतोष सिटी बरेली (उ. प्र.)